Followers

बुधवार, 2 अक्तूबर 2013

चेहरों की चुटकियां …………..

 

  • Shweta Sharma added a new photo.

  •  

    • अरुण अरोरा

      बहुत ग़मगीन है ..

      मामला बहुत संगीन है

      सुना है बड़ी मेहनत से इस्तीफा लिख कर लाये थे

      अगले ने फाड़ दिया ...

    •  

      • Sanjay Bengani

        भ्रष्टाचारयुक्त सघन वातावरण में लालबहादूर शास्त्री निर्मलता का अनुभव देते है. विश्वास करना कठीन होता है कि उनका सम्बन्ध इसी कांग्रेस पार्टी से था. आज अखबार में शास्त्रीजी पर कोई विज्ञापन नहीं दिखा. क्या सरकारों की आँखों में अभी इतनी शर्म बची है कि वे ईमानदार प्रमं से कतरा रहे है. अगर ऐसा है तो समझिये उम्मीद अभी बची हुई है. गाँधी विरोधी तो मिल जाएंगे, शास्त्री विरोधी कम ही होंगे. अतः एक आध फोटो उनकी भी छपनी चाहिए, आज के दिन. #2 अक्टूबर

      •  

      • Priyanka Gahlot

        गाँधी के महिमा मंडन से ज्यादा ज़रूरी है गाँधी का पुनर्मूल्यांकन.

      •  

      • Prabhat Ranjan

        छोटा था लेकिन वो लोगों कद में बहुत बड़ा था/

        छोटे छोटे कदम थे लेकिन डग में बहुत बड़ा था....

        'जय जवान जय किसान' के अमर नायक लालबहादुर शास्त्री की स्मृति को प्रणाम!

      •  

      • Anita Maurya

        'वो '

        जानती थी,

        'वक़्त' अपने घर लौट कर नहीं आता,

        'उस' मोहिनी सी सूरत को,

        अपनी आँखों में भर लेना चाहती थी वो,

        उसे पता था,

        'बेशक' वापसी के 'वादे हजार' थे,

        'लेकिन' कोई रास्ता न था ...

        चाहे, अनचाहे ,

        'वो'

        रोज ही दर्द बन कर,

        उसकी आँखों से छलक पड़ता था,

        उसका लौट जाना,

        कभी मंजूर नहीं किया उसने,

        जाने कितनी ही रातें

        गुजारती रही वो,

        उसकी हथेली की छुअन

        अपनी हथेली पर महसूस करते,

        अपनी बंद पलकों में

        उसके सपने बुनते ...!!ANU!!

      •  

      • Manoj Kumar Jha

        तेरे वादे पर हम ने भरोसा किया …,

        कुछ तो उल्फत का तुम भी हक निभाया करो …;

        हम भी हमराज़ हैं तुम भी हमराज़ हो …,

        दिल की बात हमसे ना छुपाया करो ..!!!

      •  

      • सनातन कालयात्री

        युद्ध, त्रासदी और विनाश घातक रूप से सम्मोहित करने की क्षमता रखते हैं। दो महायुद्धों को झेल चुके यूरोप के साहित्य और कलाकर्मियों की रचनाओं में यह सम्मोहन प्रचुर उपलब्ध है।

      •  

        • निन्दक नियरे राखिये

          लालू प्रसाद यादव को कैदी नंबर 3312 मिला!

          सेकुलर होने के नाते उन्होंने जेल प्रशासन से 786 नंबर देने का आग्रह किया।

        •  

        • Abhay Tiwari

          आज एक दिन,

          अच्छा देखें!

          अच्छा सुनें!

          और अच्छा लिखें!

        •  

        • Vani Geet

          फेसबुक पर पेज बनाना चाहो तो क्या कैटेगरी चुने , ना हम पब्लिक फिगर हैं , ना रजिस्टर्ड राईटर… ब्लॉगर या होममेकर /गृहिणी का भी एक ऑप्शन होना चाहिए था !

        •  

        • Rashmi Mishra

          किसी को सजा देनी हो तो उसकी सबसे प्रिये चीज़ उससे अलग कर दो.... बंदा किश्तों मे मर जायेगा..!

          (ऐसे 'मर्डर' सिर्फ ईश्वर करते हैं, ये उनके न्याय का तरीका है...)

        •  

        • Mani Yagyesh Tripathi

          सच तो ये है कि मनमोहन अभी तक ये नहीं समझ पाये हैं कि 'देहाती औरत' कहकर नवाज शरीफ ने उनकी बेइज्जती की है या तारीफ...

        •  

           

        • Era Tak

          बिना कहे तो वो कभी समझा नहीं

          अब कहने पर समझ ले तो गनीमत ...era ~ET~

        •  

        • Arpit Bansal

          भला हो सरकार का नोटों पर बापू के फोटो है , वर्ना लोग आज याद नहीं कर पाते की ये अख़बार में छपी फोटो किसकी है ! गाँधी जयंती की शुभकामनाये !

          विशेष - ठेके बंद है पर दारू मिल रही है !

        •  

        • Kajal Kumar

          यार ये दीपक चौरसि‍या तो बि‍ल्‍कुल चि‍रकुट सा लगता है

          अरे कोई तो इसे बताओ कि‍ गरि‍मा भी एक शब्‍द होता है

        •  

           

          Dev Kumar Jha

          जय जवान, जय किसान... जय हिन्द... शास्त्रीजी पर गर्व है।

          ऐसे सशक्त नेतृत्व की आवश्यकता है। बिना रीढ़ वाली व्यवस्था से मन उचाट हो गया है।

          4 टिप्‍पणियां:

          1. आपके ब्लॉग को ब्लॉग एग्रीगेटर "ब्लॉग - चिठ्ठा" में शामिल कर लिया गया है। सादर …. आभार।।

            नई चिठ्ठी : हिंदी ब्लॉग संकलक (एग्रीगेटर)

            कृपया "ब्लॉग - चिठ्ठा" के फेसबुक पेज को भी लाइक करें :- ब्लॉग - चिठ्ठा

            उत्तर देंहटाएं
          2. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल गुरुवार (03-10-2013) को "ब्लॉग प्रसारण : अंक 135" पर लिंक की गयी है,कृपया पधारे.वहाँ आपका स्वागत है.

            उत्तर देंहटाएं

          पोस्ट में फ़ेसबुक मित्रों की ताज़ा बतकही को टिप्पणियों के खूबसूरत टुकडों के रूप में सहेज कर रख दिया है , ...अब आप बताइए कि आपको कैसी लगे ..इन चेहरों के ये अफ़साने