Followers

शनिवार, 3 दिसंबर 2011

अभी ना जाओ छोड़ कर, देव साहब ... कि दिल अभी भरा नहीं ...


२६ सितम्बर १९२३  - ०४ दिसम्बर २०११
मैं जिंदगी का साथ निभाता चला गया, हर फिक्र को धुंए में उड़ाता चला गया। जिस वक्त यह गाना लिखा गया और फिल्माया गया किसी ने नहीं सोचा था कि देव आनंद बालीवुड में इतनी लंबी पारी खेलेंगे जिसको दुनिया सलाम करेगी। 1946 से लगातार 2011 तक बालीवुड में सक्रिय रहने के बाद बालीवुड के इस अभिनेता ने लंदन में अंतिम सांस ली।
जब से यह खबर आई है हर कोई उनको अपनी अपनी श्रद्धांजलि दे रहा है ... चाहे वो ब्लॉग पर हो या फेसबुक पर ...  

सदाबहार अभिनेता देवानन्द को हार्दिक श्रद्धाँजलि...
Jo mil gaya usi ko muqaddar samajh gaya. jo kho gaya ... Shradanjali dev sahab. ..
आज सुबह् स्तब्ध करने वाली न्यूज़ आई..... देव साहब नहीं रहे.... सदाबहार, इस दुनियां का सबसे बडा स्टार नहीं रहा........ बस एक ही लाईन याद आ रही है....... मैं ज़िन्दगी का साथ निभाता चला गया...... एक भावपूर्ण श्रद्धांजलि.... 
अभी न जाओ छोड़कर..
देव आनंद नहीं रहे
आप भी इस महान अभिनेता को
श्रधांजलि दीजिये...
विश्वप्रसिद्ध ग़ज़ल गायक जगजीत सिंह के बाद अब सदाबहार अभिनेता
देवानंद के भी चले जाने से महफ़िल-ए-अदब का एक और चराग बुझ गया है .

यह मेरे लिए दूसरा झटका है, दोनों ही मेरे पसंदीदा रहे और दोनों को

मैंने ख़ूब चाहा, ख़ूब देखा -सुना . पर अफ़सोस...कि आज दोनों के लिए
... सिर्फ़ दुःख ही कर सकता हूँ .

परमपिता दिवंगत आत्माओं को चिरशांति दे



ओम शान्ति !

‎"गाईड" के जाने के साथ हिन्दी सिनेमा के एक युग का अवसान हुआ।

महानायक को विनम्र श्रद्धांजलि।
 

http://navbharattimes.indiatimes.com/articleshow/10976977.cms

navbharattimes.indiatimes.com
बॉलिवुड के सदाबहार ऐक्टर देवानंद नहीं रहे। देवानंद का निधन लंदन में हार्ट अटैक से हुआ। अपने आखिरी दम तक देवानंद बॉलिवुड में सक्रिय थे...

अभिनेता देव आनंद साहब के चले जाने का समाचार आज सुबह सुबह अमित तिवारीजी ने दिया..............क्या बोलूं? एक युग का अंत हो गया.लोग फिल्मे देखना पसंद करते हैं पर उनसे प्रेरित होने को सार्वजनिक रूप से नही स्वीकारते.
उम्र को अपनी सोच पर हावी न होने देना और जिंदादिली से जीना मैंने देव साहब से सीखा.जहाँ पचास तक पहुँचते -२ लोग अपने आपको बुजुर्ग,बुड्ढा मानने लगते हैं वहाँ उनका-देव आनंद साहब का- जीवन को न...ौजवानों की तरह जोश,खरोश,उमंग के साथ जीना मुझे हमेशा ऊर्जावान बनाता रहा.उनकी फिल्मों के गाने बहुत मधुर और खूबसूरत थे.एक गाना जो मेरे जीवन का दर्शन बन गया. धुप थी नसीब में तो धुप में लिया है दम,चांदनी मिलि तो चांदनी में सो लिए जो भी प्यार से मिला हम उसी के हो लिए............ मीरा ने भी तो मोहन को प्यार केबदले खरीद लिया.भगवान भी इस प्यार के कारण भक्त के हो गये और प्यार....खुद से,काम से..दोस्तों से...दुश्मनों से ,अपनों से गैरों से.आज नो टीयर्स...नो उदासी .अलविदा दोस्त ! वहाँ भी मस्त रहना और 'उन' तक अपनी झूमती चाल के साथ जाना.
भीतर के खूबसूरत उजाले से चेहरे को नुरानी करना मैंने तुम्ही से सीखा था राजू !

तन रहे न रहे, मैं रहूँगा.. मौत एक ख्याल है जैसे जिंदगी एक ख्याल है..न सुख है, न दुःख है न इंसान न भगवान..सिर्फ मैं हूँ.
Guide is no more..RIP 
 
 
Hari Jaipur shared a link.

hindi.webdunia.com
लंदन। भारतीय सिनेमा के सदाबहार अभिनेता देव आनंद का शनिवार देर रात दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया। वे 88 वर्ष के थे। | Dev Anand Died, Dev Anand, Dev Anand करियर

वहाँ कौन है तेरा
मुसाफिर!
जाएगा कहाँ!!
दम ले ले घड़ी भर
ये छैयां, पाएगा कहाँ!!
वो छैयां, जिसे पृथ्वी कहते हैं, छोड़ चला ये महान कलाकार!!
 


 
 
अभी न जाओ छोड़ कर कि दिल अभी भरा नहीं ...
www.ndtv.com
Dev Anand, the 'Evergreen Romantic Superstar' of Indian cinema, has passed away here last night following cardiac arrest. He was 88. Dev Anand, who had come here for medical check up, was not keeping well for the last few days, family sources told PTI.

अभी न जाओ छोड़ कर कि दिल अभी भरा नहीं ...




जिसने सिखाया कि , इस ज़िंदगी रहे तब तक , जिंदगी से होड चले ,
लो बंद कर एक और पन्ना , दुनिया को देवानंद भी अकेला छोड चले
  

सभी सिने प्रेमियों की ओर से देव साहब को शत शत नमन और विनम्र श्रद्धांजलि !

2 टिप्‍पणियां:

पोस्ट में फ़ेसबुक मित्रों की ताज़ा बतकही को टिप्पणियों के खूबसूरत टुकडों के रूप में सहेज कर रख दिया है , ...अब आप बताइए कि आपको कैसी लगे ..इन चेहरों के ये अफ़साने